Articles in this section:
Factsheet Categories:

बीमारी अवकाश और देखभाल करने वालों के लिए तथा अनुकंपा( कम्पैशनेट) अवकाश

बीमारी अवकाश और देखभाल करने वालों के लिए छुट्टी तथा अनुकंपा अवकाश दोनों ही आपको ज़रूरत पड़ने पर काम से छुट्टी लेने की अनुमति देते हैं – बिना आय खोए।

काम पर आपके अधिकांश अधिकारों की तरह, इस प्रकार की छुट्टी कार्यकर्ताओं के लिए यूनियन आंदोलन के प्रचार और जीत के बाद कानून बन गई।

बीमारी अवकाश और देखभाल करने वालों के लिए अवकाश

बीमारी अवकाश और देखभालकर्ता  के लिए छुट्टी, जिसे व्यक्तिगत अवकाश के रूप में भी जाना जाता है, आपको ज़रूरत पड़ने पर एक दिन के लिए काम से छुट्टी लेने और फिर भी उस दिन का वेतन प्राप्त करने की अनुमति देता है।

आप यह छुट्टी ले सकते हैं यदि आप अस्वस्थ हैं, जिसमें बीमारी, चोट, तनाव, ख़राब मानसिक स्वास्थ्य और कई अन्य चीजें शामिल हैं।

आप यह अवकाश तब भी ले सकते हैं जब आपको अपने परिवार या परिवार के किसी सदस्य की देखभाल करने की आवश्यकता हो या कोई आपात स्थिति हो।

बीमारी अवकाश और देखभालकर्ता  के लिए छुट्टी लेने से पहले आपको यथासंभव अधिक से अधिक नोटिस देने की आवश्यकता है। कई मामलों में, आपका एम्प्लॉयर आपसे छुट्टी लेने के कारण का सबूत देने के लिए भी कह सकता है, जैसे कि चिकित्सीय प्रमाणपत्र, हालांकि कुछ एन्टरप्राईज़ एग्रीमेंटस् इस आवश्यकता को कम कर सकते हैं।

पूर्णकालिक, स्थायी कर्मचारियों को प्रत्येक वर्ष कम से कम दस दिनों की बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी मिलती है। यदि आप अंशकालिक काम करते हैं तो आप उतनी ही छुट्टी के हकदार हैं जितने घंटे आप हर सप्ताह काम करते हैं

आपके कार्यस्थल को कवर करने वाले अवार्ड या एग्रीमेंट के आधार पर, आप हर साल दस दिनों से अधिक बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी के हकदार हो सकते हैं।

यदि आप अपनी सारी वेतन सहित बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी का उपयोग कर लेते हैं, तो आपको ज़रूरत पड़ने पर कम से कम दो दिन की अवैतनिक देखभालकर्ता छुट्टी लेने का भी अधिकार है।

कैज़ुअल कर्मचारी किसी भी वेतन सहित बीमारी अवकाश के हकदार नहीं हैं। यह कैज़ुअल काम की कई समस्याओं में से एक है, जिसे बदलने के लिए यूनियन आंदोलन लड़ रही है।

अनुकंपा अवकाश

अनुकंपा( कम्पैशनेट) अवकाश, जिसे शोक अवकाश के रूप में भी जाना जाता है, तब लिया जा सकता है जब आपके तत्कालिक परिवार या घर के किसी सदस्य की मृत्यु हो जाती है या उसे जानलेवा बीमारी या चोट लग जाती है।

पूर्णकालिक और अंशकालिक दोनों कर्मचारियों को प्रति घटना दो दिन का वेतन सहित अनुकंपा अवकाश लेने का अधिकार है। आप हर बार कुछ होने पर दो दिन की छुट्टी के हकदार होते हैं। अगर कोई गंभीर रूप से बीमार हो जाता है और कुछ समय बाद मर जाता है, तो ये दो अलग-अलग घटनाएँ मानी जाती हैं।

यदि आप एक कैज़ुअल कर्मचारी हैं, तो वही नियम लागू होते हैं। दुर्भाग्य से, कैजुअल कर्मचारी केवल अवैतनिक अनुकंपा अवकाश ले सकते हैं।

अनुकंपा अवकाश लेने से पहले आपको अधिक से अधिक नोटिस देना चाहिए। आपका एम्प्लॉयर आपसे सबूत देने के लिए कह सकता है, लेकिन यह अनुरोध उचित और परिस्थितियों के प्रति संवेदनशील होना चाहिए।

छुट्टी जमा करना और उसका भुगतान लेना

बीमारी अवकाश और देखभालकर्ता की छुट्टी आपके काम के पहले दिन से ही जमा होने लगती है, भले ही आप प्रोबेशन पर हों। जब आप सवैतनिक अवकाश पर होते हैं और जब आप सामुदायिक सेवा कर रहे होते हैं तो यह जमा होता रहता है। लेकिन जब आप अवैतनिक अवकाश पर होते हैं तो यह जमा नहीं होता है।

यदि आपके पास वर्ष के अंत में कोई प्रयोग न की गई बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी है, तो यह अगले वर्ष में जमा हो जाती है।

अनुकंपा छुट्टी समय के साथ-साथ जमा नहीं होती है जैसे बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी होती है। इसके बजाय, जब आपके परिवार या परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु हो जाती है या किसी जानलेवा बीमारी या चोट का शिकार हो जाता है तो आपको हर बार दो दिन की छुट्टी मिल सकती है।

जब आप अनुकंपा अवकाश लेते हैं, तो वे दिन किसी अन्य अवकाश शेष से घटाए नहीं जाते हैं और इसकी कोई अधिकतम अवधि भी नहीं है जो आप प्रत्येक वर्ष ले सकते हैं।

जब आप अपनी नौकरी छोड़ते हैं, तो आप बीमारी और देखभालकर्ता की छुट्टी या अनुकंपा छुट्टी का भुगतान नहीं पा सकते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि जब आपको आवश्यकता हो तो अपनी छुट्टी ले लें।

Enter your email to access our expert workplace information

Almost two million union members have contributed to us providing this free workplace factsheet. Because you’ve read a few of our factsheets, we’re asking for your email address to keep reading. This is so we can keep you updated with the latest news and workplace advice.

Don’t worry: our factsheets will always remain free, thanks to the solidarity of the union movement.

View our Privacy Policy